Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

Startup Funding: कोरोना काल में बनाना चाहते हैं स्टार्टअप तो इन बातों पर करें अमल

(अजय बत्रा, वाधवानी फाउंडेशन के एक्जीक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट, वेंचर फासट्रैक)

कोरोना के कहर (Corona) के बीच यह आम आदमी ही नहीं, स्टार्टअप (Startup) के लिए भी चुनौतीपूर्ण समय है। स्टार्टअप के संस्थापक घटी मांग और कम होती नकदी की समस्या से जूझ रहे हैं। इस समय ग्राहक खरीद के अपने निर्णयों का पुनर्मूल्यांकन कर रहे हैं या फिर उन्हें टाल दे रहे हैं। टाई की हाल की एक रिपोर्ट कहती है कि कोविड-19 के कारण 15 प्रतिशत स्टार्टअप ने अपना काम रोक दिया है जबकि 44 प्रतिशत के पास छह महीने से कम के लिए नकद है। ऐसे में स्टार्टअप के लिए यह खास तौर से मुश्किल समय रहा है। जब वे धन जुटाने के चरण की शुरुआत करने वाले थे तभी महामारी की शुरुआत हो गई।
जब स्टार्टअप का फोकस में बने रहना और सतर्क विकास जरूरी हो गया है। ऐसे में उन्हें धन जुटाने की अपनी रणनीति को संशोधित करने की आवश्यकता है। एंजल और वेंचर कैपिटल के लिए प्रतिस्पर्धा बढ़ गई है। मंदी का परिणाम यह हुआ है कि फंडिंग के निर्णय चक्र का विस्तार हो गया है और धन सामान्य तौर पर कम है। ऐसे में मुद्दा फिर से यही हो गया है कि मजबूत और व्यवहार्य उपक्रम बनाए जाएं। जूम कॉल पर ध्यान कम है और निवेशक का ध्यान जितनी जल्दी संभव हो सके, आकर्षित करना आवश्यक हो गया है।
कुछ सीख जो आपको धन जुटाने में मदद करेगा
किसी भी कारोबार की संभावना संस्थापक पर बहुत निर्भर करती है और इसलिए, निवेशक संस्थापक (कों) की पृष्ठभूमि का काफी ख्याल रखते हैं। वैसे तो काम करने के लिए किसी भी विशिष्ट क्षेत्र के चुनाव के लिए अपनी प्रेरणा का वर्णन जरूरी है पर इसका कोई निजी कारण हो तो वह भी बताया जाना चाहिए लेकिन संक्षेप में। निवेशक जानना चाहते हैं कि संस्थापक अपने ज्ञान और जुनून को कैसे किसी उद्यम में लगाएंगे कि खेल बदल जाए। पिछली घटनाओं से धैर्य, शक्ति, नवाचार और चरित्र का पता चलता है और जो आपमें, आपके विचारों में निवेश करना चाह रहा है उसके लिए यह अपार प्रासंगिकता का मामला है लेकिन इसमें दिलचस्पी और यकीन आपकी प्रस्तुति से आएगा। विशेष रुचि का भी महत्व है कि महामारी के दौरान आपने निर्माण, सीखने और जीवित रहने के लिए कैसे क्या किया है।
शब्दावली या शब्द ज्ञान का मतलब है
भूमिका बनाने या अपने पक्ष में माहौल बनाने के लिए सत्र के दौरान इस्तेमाल की जाने वाली भाषा अप्रासंगिक है। अक्सर इससे संस्थापक की सोच के बारे में पता चलता है। लेकिन निवेशक जानना चाहते हैं कि आप आपने और अपनी टीम (संस्थापकों की) के बारे में क्या और कितना बताते हैं, उत्पाद ग्राहक के लिए कैसे बेहतर होगा उसमें आपके अनुभव की क्या भूमिका होगी, पैसों का उपयोग आप कैसे करेंगे या पैसे से क्या बदलेगा – यह सब आपकी बातों में होना चाहिए। हिन्दी में इसे कहा जाता है कि आपकी बातों में तथ्य होना चाहिए सिर्फ कथ्य नहीं। इसमें आपके किसी खास बयान का मतलब नहीं है आपकी बातों से पता चलाना चाहिए कि संस्थापकों को प्रशिक्षित किया जा रहा है, एक-दूसर का सहयोग कैसा है और सोच कैसी है। आप तथ्यों से अलग अच्छा बोल सकते हैं पर जरूरी नहीं है कि उसे मान लिया जाए या अपने इरादे से अवगत करा सकें।
स्पष्ट और संक्षिप्त संदेश
तेज दिमाग की पहचान मानी गई है कि वह कुछ शब्दों में किसी भी विषय का सार व्यक्त कर देता है। एक संस्थापक के रूप में, अपनी पिच के उद्देश्यों से आगे सोचें, प्रमुख संदेशों का पूर्व-चयन करें और उन्हें संक्षेप में पर प्रभावशाली तरीके से व्यक्त करें। निवेशक से अपनी बात कहने के दौरान आपका आत्मविश्वास निवेशकों में यह विश्वास जगाएगा कि आप जो कह रहे हैं उसे पूरा कर सकेंगे। ग्राहकों, भागीदारों और नव नियुक्तों के सामने आप उतने ही प्रभावी रहेंगे। ऑनलाइन श्रोता बहुत कम ध्यान देते हैं – समय का ख्याल रखें।
शक्तिशाली बातें पावरप्वाइंट से ज्यादा महत्वपूर्ण है
अपना परिचय देने का मौका है इसे बोलने का मौका मत समझिए। पिच डेक का उपयोग अपने संदेश को व्यक्त करने के लिए एक उपकरण के रूप में करें पर संदेश तो दें। सुनिश्चित करें कि आपकी स्लाइड्स में विवरण हो पर भीड़ नहीं है जो दर्शकों को प्रभावित करें, बोर करते हैं। डेक को अपनी व्यक्तिगत यात्रा, व्यापार कथा और निजी शैली के साथ तालमेल में करें। संदेश को व्यक्त करने के लिए तस्वीरों का उपयोग करें। इससे जल्दी थकने या ऊबने वालों को विजुअल ब्रेक मिलेगा। आप पिच पर जो भी बोलें उससे सुनने वालों को अंत में लगना चाहिए कि, “यह एक दिलचस्प टीम है, इसके विचार रोमांचक हैं; चलो और अधिक जानें। शार्क टैंक जैसे शो पर क्या दिखाई देता है के बावजूद, धन देनें (फंडिंग के) निर्णय शायद ही कभी मौके पर किए जाते हैं। चीजों को आगे ले जाने के लिए एक और बैठक की जरूरत है; जिसकी तैयारी आप कठिन परिश्रम से कर सकें। सुनिश्चित कीजिए कि आप अपने बाजार, प्रतियोगियों, और वित्त के बारे में जानते हैं। निश्चित रूप से आपसे अपने अत्यधिक दबाव में काम करने की क्षमता के बारे में पूछा जाएगा। उपलब्ध होने पर उनके प्रशंसापत्र के साथ-साथ अपने वर्तमान और संभावित ग्राहकों की स्पष्ट सूची के साथ इन अनुवर्ती चर्चाओं में चलना हमेशा अच्छा होता है। सुनिश्चित कीजिए कि आप अपने बाजार, प्रतिस्पर्धियों और वित्त को जानते हैं। निश्चित रूप से आपसे पूछा जाएगा कि दबाव में काम करने की आपकी योग्यता कैसी है। बाद में होने वाली ऐसी चर्चा हमेशा अच्छी होती है। इसके लिए अपने मौजूदा और भावी ग्राहकों की स्पष्ट सूची के साथ हमारे तैयार रहिये।व्यापार मॉडल पर फिर से सोचें
इन चुनौतीपूर्ण समय में, जोरदार ज़ूम पिच पर अच्छे प्रदर्शन की तैयारी कीजिए। लेकिन इससे भी महत्वपूर्ण बात, अपने व्यापार मॉडल पर फिर से सोचें। मूल्य प्रस्ताव को समायोजित करें, और अपनी विकास योजनाओं को फिर से रणनीति बनाएं क्योंकि आप दूसरों को एक रोमांचक भविष्य के लिए भागीदार बनने के लिए आमंत्रित करते हैं।

Source: Nav Bharat Times

Más Blogs

We use necessary cookies and/or similar technologies to make this website work and to collect information when you interact with this website to improve your experience. By using This website, you acknowledge and consent to our cookie policy and privacy policy